Veda Upanishads

This section is devoted for the matter related to Veda/Upanishad/Purana which is directly connected to GowdaSaraswat Brahmin community.

।।श्री राम समर्थ।।

विज्ञान आणि अध्यात्म यातील फरक

  1. विज्ञान प्रयोगातून विकसित होते,

अध्यात्म योगातून प्राप्त होते.

  1. विज्ञानासाठी साधने वापरली जातात,

अध्यात्मासाठी साधना वापरली जाते.

 

  1. विज्ञानामध्ये शोध आहे,

अध्यात्मामध्ये बोध आहे.

  1. विज्ञानामध्ये तत्त्वपरिक्षा आहे,

अध्यात्मामध्ये सत्त्वपरिक्षा आहे.

  1. विज्ञानामध्ये व्यासंग आहे,

अध्यात्मामध्ये सत्संग आहे.

  1. विज्ञानामध्ये कर्तृत्व आहे,

अध्यात्मामध्ये दातृत्व आहे.

  1. विज्ञानामध्ये शक्ती आहे,

अध्यात्मामध्ये भक्ती आहे.

  1. विज्ञानामध्ये प्रकल्प आहेत,

अध्यात्मामध्ये संकल्प आहे.

  1. विज्ञानामध्ये तंत्रज्ञान आहे,

अध्यात्मामध्ये आत्मज्ञान आहे.

  1. विज्ञान उपभोगास पोषक आहे,

अध्यात्म त्यागास पोषक आहे.

  1. विज्ञानामुळे पुरुषार्थ घडतो,

अध्यात्मामुळे परमार्थ घडतो.

  1. विज्ञानामुळे प्रतिष्ठा वाढते,

अध्यात्मामुळे निष्ठा वाढते.

  1. विज्ञानामुळे संपन्नता प्राप्त होते,

अध्यात्मामुळे प्रसन्नता प्राप्त होते.

  1. विज्ञानामुळे प्रसिध्दी मिळते,

अध्यात्मामुळे सिध्दी मिळते.

  1. विज्ञानामुळे परिस्थिती बदलते,

अध्यात्मामुळे मनःस्थिती बदलते.

  1. विज्ञानामुळे चातुर्य विकसित होते,

अध्यात्मामुळे चारित्र्य विकसित होते.

  1. विज्ञानामध्ये तपशिलावर भर आहे,

अध्यात्मामध्ये तप शील यावर भर आहे.

  1. विज्ञानामध्ये पराक्रम आहे,

अध्यात्मामध्ये आत्मसंयम आहे.

  1. विज्ञानामुळे भौतिक विकास होतो,

अध्यात्मामुळे आत्मिक विकास होतो.

  1. विज्ञानामुळे बाह्य सुख प्राप्त होते,

अध्यात्मामुळे अंतरात्म्यातून सुख प्राप्त होते.

  1. विज्ञानामुळे अनेक प्रश्न निर्माण होतात,

अध्यात्मामुळे सर्व प्रश्न सुटतात.

  1. विज्ञानामुळे भौतिकता सुधारते,

अध्यात्मामुळे नैतिकता सुधारते.

  1. विज्ञानामुळे धन निर्माण होते,

अध्यात्मामुळे समाधान निर्माण होते.

  1. विज्ञानाकरिता उपकरणाची आवश्यकता,

अध्यात्माकरिता अंतःकरणाची आवश्यकता.

  1. विज्ञान हव्यासाची पेरणी करते,

अध्यात्म ध्यासाची पेरणी करते.

  1. विज्ञान आमचा विश्वास आहे,

अध्यात्म आमचा श्वास आहे.

  1. विज्ञानामुळे कार्यास चालना मिळते,

अध्यात्मामुळे स्वधर्मास चालना मिळते.

  1. विज्ञानामुळे स्वार्थ निर्माण होतो.

अध्यात्मामुळे परमार्थ निर्माण होतो.

  1. विज्ञानामुळे क्षणिक आनंद मिळतो,

अध्यात्मामुळे कायम स्वरूपाचा आनंदj मिळतो.

  1. विज्ञानामुळे जीवनाला गती मिळते,

अध्यात्मामुळे जीवनाला योग्य दिशा मिळते

Five sacred things

*पाँच वस्तु ऐसी हे ,जो अपवित्र होते हुए भी पवित्र है….*
.
.
.
उच्छिष्टं शिवनिर्माल्यं
वमनं शवकर्पटम् ।
काकविष्टा ते पञ्चैते
पवित्राति मनोहरा॥

*१. उच्छिष्ट — गाय का दूध ।*
गाय का दूध पहले उसका बछड़ा पीकर उच्छिष्ट करता है।फिर भी वह पवित्र ओर शिव पर चढ़ता हे ।

*२. शिव निर्माल्यं -*
*गंगा का जल*
गंगा जी का अवतरण स्वर्ग से सीधा शिव जी के मस्तक पर हुआ । नियमानुसार शिव जी पर चढ़ायी हुई हर चीज़ निर्माल्य है पर गंगाजल पवित्र है।

*३. व*पाँच वस्तु ऐसी हे ,जो अपवित्र होते हुए भी पवित्र है….*
.
.
.
उच्छिष्टं शिवनिर्माल्यं
वमनं शवकर्पटम् ।
काकविष्टा ते पञ्चैते
पवित्राति मनोहरा॥

*१. उच्छिष्ट — गाय का दूध ।*
गाय का दूध पहले उसका बछड़ा पीकर उच्छिष्ट करता है।फिर भी वह पवित्र ओर शिव पर चढ़ता हे ।

*२. शिव निर्माल्यं -*
*गंगा का जल*
गंगा जी का अवतरण स्वर्ग से सीधा शिव जी के मस्तक पर हुआ । नियमानुसार शिव जी पर चढ़ायी हुई हर चीज़ निर्माल्य है पर गंगाजल पवित्र है।

*३. वमनम्—*
*उल्टी — शहद..*
मधुमख्खी जब फूलों का रस लेकर अपने छत्ते पर आती है , तब वो अपने मुख से उस रस की शहद के रूप में उल्टी करती है जो पवित्र कार्यों मे उपयोग किया जाता है।

*४. शव कर्पटम्— रेशमी वस्त्र*
धार्मिक कार्यों को सम्पादित करने के लिये पवित्रता की आवश्यकता रहती है , रेशमी वस्त्र को पवित्र माना गया है , पर रेशम को बनाने के लिये रेशमी कीडे़ को उबलते पानी में डाला जाता है ओर उसकी मौत हो जाती है उसके बाद रेशम मिलता है तो हुआ शव कर्पट फिर भी पवित्र है ।

*५. काक विष्टा— कौए का मल*
कौवा पीपल पेड़ों के फल खाता है ओर उन पेड़ों के बीज अपनी विष्टा में इधर उधर छोड़ देता है जिसमें से पेड़ों की उत्पत्ति होती है ,आपने देखा होगा की कही भी पीपल के पेड़ उगते नही हे बल्कि पीपल काक विष्टा से उगता है फिर भी पवित्र है।
मनम्—*
*उल्टी — शहद..*
मधुमख्खी जब फूलों का रस लेकर अपने छत्ते पर आती है , तब वो अपने मुख से उस रस की शहद के रूप में उल्टी करती है जो पवित्र कार्यों मे उपयोग किया जाता है।

*४. शव कर्पटम्— रेशमी वस्त्र*
धार्मिक कार्यों को सम्पादित करने के लिये पवित्रता की आवश्यकता रहती है , रेशमी वस्त्र को पवित्र माना गया है , पर रेशम को बनाने के लिये रेशमी कीडे़ को उबलते पानी में डाला जाता है ओर उसकी मौत हो जाती है उसके बाद रेशम मिलता है तो हुआ शव कर्पट फिर भी पवित्र है ।

*५. काक विष्टा— कौए का मल*
कौवा पीपल पेड़ों के फल खाता है ओर उन पेड़ों के बीज अपनी विष्टा में इधर उधर छोड़ देता है जिसमें से पेड़ों की उत्पत्ति होती है ,आपने देखा होगा की कही भी पीपल के पेड़ उगते नही हे बल्कि पीपल काक विष्टा से उगता है फिर भी पवित्र है।

Interesting information in Konkani ( Courtesy : Shenoy Goa)(pdf file)

Interesting information in Konkani ( Courtesy : Shenoy Goa)

I just want to share some interesting information in Konkani language from a Book on Bhagavat Gita in Slokaroopi Konkani printed some years ago from Kochi.

It is taken from the Introduction part of the above book.(pdf file)

Hindu, Hindusthan, Hindu Dharma ( Courtesy: Anantsarma Sastri, Kochi)

 

Hindu, Hindustan, Hindu Dharma ( Courtesy: Anantsarma Sastri, Kochi)

Introduction 

These are pdf file(s) of the booklet published way back in 1960 in Malayalam language from Kochi. The author Sri Anantsarma Sastri was an eminent Sanskrit scholar of yester years and he was awarded with various honours like Vedanta Bhushanam, Sahitya Ratna, Kaviraj, Mahamahopadhyaya etc. He had submitted this document to Dr C. P. Ramaswamy Iyer, Chairperson of Hindu Religious Endowment Commission of Government of India.

Dr Sastry was really a GSB Ratna………

[ap-form id="2"]
WordPress Video Lightbox Plugin